Ads Area

he ne laser: संरचना, कार्यविधि और चित्र

he ne laser: संरचना, कार्यविधि और चित्र - नमस्कार दोस्तो! स्वागत है आपका RDN Notes ब्लॉग में। तो आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले है “he ne laser” के बारे में। and संरचना, कार्यविधि और चित्र and बने रहिये इस Article में और जानिए पूरे Details में। 
{getToc} $title={Table of Contents}

हीलियम नियोन गैस लेजर (He Ne gas laser) - 

लेजर के कुछ उपयोगों में सतत पुंज (continuous beam) की आवश्यकता होती है, जो रूबी लेजर से प्राप्त नहीं होता है। वर्ष 1961 में जॉवन, बेनिट तथा हेरिओट ने एक गैस लेजर की खोज की, जो स्पंद के रूप में नहीं अपितु सतत रूप से प्रकाश उत्सर्जित करता है। he ne laser, सतत तरंग लेजर में बहुत अधिक प्रचलित है। वर्तमान में यह 0.5 मिलीवाट से 60 मिलीवाट तक एवं विभिन्न विमाओं (कुछ सेमी से कुछ मीटर) में उपलब्ध है। 

संरचना (Construction) - 

he ne laser में 9 : 1 के अनुपात में क्रियाशील पदार्थ He एवं Ne का मिश्रण होता है। इसका दाब पारे के 1 मिमी के बराबर होता है। इस गैस लेजर की व्यवस्था को चित्र में दिखाया गया है। He-Ne गैस मिश्रण एक क्वार्ट्ज नलिका में लिया जाता है। नलिका के दोनों सिरों पर प्रकाशतः समतल (optically plane) तथा समानान्तर दर्पण लगे होते हैं। इनमें एक पूर्ण रजतित (silvered) तथा दूसरा आंशिक रजतित होता है। दोनों दर्पण के बीच की दूरी लेजर प्रकाश की अर्ध तरंगदैयों का पूर्ण गुणक (integral multiple) होती है।
he ne laser diagram

 

he ne laser में de पावर सप्लाई द्वारा निरन्तर वैद्युतीय पम्पन किया जाता है। परन्तु do स्त्रोत द्वारा उत्तेजन करने में बहुत शोर (noise) होता है उत्तेजन की वैकल्पिक विधि उच्च आवृत्ति के विद्युत स्त्रोत से जुड़े इलेक्ट्रोडों द्वारा विद्युत् विसर्जन है, जिसमें शोर नहीं होता है। 

कार्यविधि (helium neon laser working) - 

जब नलिका में विद्युत चुम्बकीय ऊर्जा प्रवाहित की जाती है, तब He परमाणु नलिका में उपस्थित इलेक्ट्रॉनों से संघट्ट करके मितस्थायी कक्षा में उत्तेजित हो जाते हैं। उत्तेजित He परमाणु Ne के सामान्य (अनुत्तेजित) परमाणुओं से संघट्ट करते हैं। चूँकि He परमाणु में मितस्थायी स्तर उन्हीं ऊर्जाओं पर होते हैं जिन पर Ne परमाणु के 2s तथा 3s स्तर होते हैं, जिसके कारण ऊर्जा का अनुनादी आदान-प्रदान सम्भव हो जाता है तथा Ne स्तरों में परिमाणी वृद्धि होती है अतः He परमाणु, Ne परमाणुओं के जनसंख्या प्रतिलोमन में सहायक है। लेजर क्रिया Ne परमाणुओं में होती है, जबकि He परमाणु केवल उत्तेजन प्रक्रिया को बढ़ाने में सहायता करते हैं लेजर दर्पण, परावर्तक दर्पण है, जिनकी परावर्तन क्षमता किसी विशिष्ट तरंगदैर्ध्य के लिए बहुत अधिक होती है। सर्वाधिक प्रचलित तरंगदैर्ध्य 6328 A है जो 3s 2p स्तर में संक्रमण के कारण प्राप्त होती है। 

35 स्तरों में से किसी एक स्तर से 3p स्तर में संक्रमण के द्वारा एक प्रबल रेखा 33900A (3-39um) की प्राप्त होती है। 25 से 2p में संक्रमण के द्वारा 11523 A (1-15um) पर एक रेखा प्राप्त होती है। संक्रमण 382p के द्वारा लेजर रेखायें 1.12, 1.16 तथा 1-21pum पर प्राप्त होती हैं। 

he ne laser: संरचना, कार्यविधि और चित्र Hindi Me का आर्टिकल कैसा लगा।आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं।या किसी प्रकार का Suggestion देना भी चाहते है तो आप नीचे Comment Box में अपनी राय हमारे साथ Share कर सकते है| 

आगे भी ऐसी ही Education जानकारियां लेने के लिए हमारे वेबसाइट rdnnotes.in को visit करे ताकि हर नयी और Education जानकारी सबसे पहले आप तक पहुचें। धन्यवाद 


he ne laser in hindi 



इसे भी पढ़ें 👇👇👇 





Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area