Ads Area

लाइम सोडा विधि - क्रिया, प्रकार, लाभ, हानियाँ, सूत्र

लाइम सोडा विधि - क्रिया, प्रकार, लाभ, हानियाँ, सूत्र - नमस्कार दोस्तो! स्वागत है आपका RDN Notes ब्लॉग में। तो आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले है “Lime Soda Process” के बारे में। and विधि, क्रिया, प्रकार, लाभ, हानियाँ, सूत्र and बने रहिये इस Article में और जानिए पूरे Details में। 
{getToc} $title={Table of Contents}

लाइम सोडा विधि in hindi (Lime Soda Process) -

इस विधि में जल में उपस्थित Ca Mg लवणों को रासायनिक विधि द्वारा अविलेय यौगिकों में बदल देते हैं जिन्हें छानकर दूर किया जाता है। इस विधि द्वारा जल की स्थायी और अस्थायी दोनों प्रकार की कठोरताएँ दूर की जा सकती हैं। इस विधि मे निम्नलिखित क्रिया होती है-

  • CaCl2 + Na2CO3 ➞ CaCO3 + 2NaCl
  • CaSO4 + Na2CO3 ➞ CaCO3 + Na2SO4
  • Ca(HCO3)2 + Na2CO3 ➞ CaCO3 + 2NaHCO3
  • MgCl2 + Ca(OH)2 ➞ Mg(OH)2 + CaCl2
  • MgSO4 + Ca(OH)2 ➞ Mg(OH)2 + CaSO4
  • Mg(HCO3)2 + Ca(OH)2 ➞ Mg(OH)2 + Ca(HCO3)2

लाइम-सोडा विधि के प्रकार (Types of Lime Soda Process) - 

(1) ठंडी लाइम सोडा विधि (Cold Lime Soda Process) - 

इस विधि में बड़े tank मे कठोर जल को लेकर मिलाते है यहाँ क्रिया सामान्य ताप पर होती है, कुछ समय बाद अवछेद दिखाई देता है।

(2) गर्म लाइम सोडा विधि (Hot Lime Soda Process) -

इस विधि में कार मे tank में कठोर जल लेकर आवश्यकता अनुशार lime तथा Soda की मात्रा मिलाते है। फिर 100°C पर गर्म करते हैं। कुछ समय के बाद तली मे अवछेद दिखाई देने लगता है 

लाइम-सोडा विधि के लाभ (Advantages of Lime Soda Process) - 

  1.  यह प्रक्रम बहुत किफायती होता है।
  2. उपचारित जल की प्रकृति क्षारीय होती है अतः वह अधिक संक्षारण नहीं करता।
  3. यह कठोरता उत्पन्न करने वाले लवण के साथ-साथ खनिज पदार्थों को भी हटा देता है।
  4. उपचारित जल की क्षारीय प्रकृति के कारण रोग उत्पन्न करने वाले जीवाणुओं की संख्या कम हो जाती है।
  5. उपचारित जल में से लोहे एवं मैग्नीशियम की मात्रा कम हो जाती है।

लाइम-सोडा विधि की हानियाँ (Disadvantages of Lime Soda Process) - 

  1. इस प्रक्रम में, दक्ष श्रमिकों की आवश्यकता पड़ती है।
  2. इस प्रक्रम में बनने वाले आपंक (sludge) को ठिकाने लगाना एक बड़ी समस्या है।
  3. उपचारित जल में बड़ी मात्रा में घुलिन लवण पाये जाते हैं। अतः इसे उच्च दाब वाले क्वथित्र (boiler) में उपयोग में नहीं लाया जा सकता है।
लाइम सोडा विधि - क्रिया, प्रकार, लाभ, हानियाँ, सूत्र Hindi Me का आर्टिकल कैसा लगा।आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं।या किसी प्रकार का Suggestion देना भी चाहते है तो आप नीचे Comment Box में अपनी राय हमारे साथ Share कर सकते है| 


आगे भी ऐसी ही Education जानकारियां लेने के लिए हमारे वेबसाइट rdnnotes.in को visit करे ताकि हर नयी और Education जानकारी सबसे पहले आप तक पहुचें। धन्यवाद 

इसे भी पढ़ें 👇👇👇 





Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area