Ads Area

ऊष्मा संचरण की विधिया - चालन, संवहन, विकिरण

नमस्कार दोस्तो! स्वागत है आपका RDN Notes ब्लॉग में। तो आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले है “ऊष्मा संचरण की विधिया” के बारे में। and चालन, संवहन, विकिरण and बने रहिये इस Article में और जानिए पूरे Details में।

ऊष्मा संचरण की तीन विधियां हैं –

  1. चालन
  2. संवहन
  3. विकिरण

{getToc} $title={Table of Contents}

1. चालन

चालन विधि के द्वारा उसमा संचरण जो होता है पदार्थ मे होता है । पदार्थ के अणु ऊष्मा को ग्रहण करते हैं और अपने कम्पन के आयाम को वह ठोस " बढ़ाकर अपने निकटवती अणुओं को ऊष्मा संचरित करते है लेकिन अणु जो है वो अपना स्थान स्थायी रूप से नही छोड़ते है । ऊष्मा संचरण की इस विधि मे कष्मा संरचरण गति पदार्थ की - ऊष्मा चालकता पर निर्भर करती है ।ऊष्मा चालकता के आधार पर 

उदा. - जब हम किसी धातु की छड़ के एक सिरे को गर्म करते है । तो कुछ देर बाद छड़ पूरी गर्म हो जाती है अर्थात् ऊष्मा का ऊँचे ताप वाले भाग से नीचे ताप वाले भाग की और संचरण होने लगता है ऊष्मा ठंडे सिरे की और पहुंचकर उसे भी गर्म कर देती है यह प्रक्रिया ही चालन कहलाती है

2. संवहन 

जब किसी तरल पदार्थ (द्रव्य अथवा गैस) को गर्म किया है तो एक स्थान पर तल ताप अधिकतम तथा दूसरे स्थान पर कम हो जाता है ताप के बढ़ने से तरल घनत्व कम हो जाता है 

अत: तरल के ऊँचे ताप वाले कण हल्के होने के कारण ऊपर उठने लगते है। ताप वाले कण आ जाते है 'और उनके स्थान पर नीचे यह प्रक्रिया तब तक चलती रहती है जब तक संपूर्ण तरल का ताप एक समान न हो जाए, ऊष्मा संचरण की इस प्रक्रिया के जिसमे माध्यम के कण स्वयं स्थानांतरित होते है संवहन कहते है 

उदा. - जब हम किसी पात्र मे को गर्म करते है तो संवहन, जल के कारण पात्र के नीचे वाले कण ऊष्मा लेकर ऊपर आ जाते है ( एवं ऊपर वाले कण नीचे चले जाते है यह प्रक्रिया जारी रहती है और संपूर्ण जल का ताप एक समान हो जाता है। अर्थात् जल गर्म हो जाता है 

3. विकिरण 

ऊष्मा संचरण की वह विधि जिसमे न तो पदार्थ के कणों का स्थानांतरण होता है और ना ही पदार्थ के बीच पड़ने वाला माध्यम गर्म होता है। इसमें माध्यम की आर आवश्यकता नही होती है। बल्कि ऊष्मा स्त्रोत से सीधे ही प्राप्त हो जाती है। इस प्रक्रिया को विकिरण कहते है।

उदा. - किसी गर्म स्त्रोत से ऊष्मा का संचरण विद्युत चुंबकीय तरंगों के रूप मे होता है। सूर्य का प्रकाश पृथ्वी तक विकिरण द्वारा ही आता है

ऊष्मा संचरण की विधिया - चालन, संवहन, विकिरण Hindi Me का आर्टिकल कैसा लगा।आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं।या किसी प्रकार का Suggestion देना भी चाहते है तो आप नीचे Comment Box में अपनी राय हमारे साथ Share कर सकते है| 

आगे भी ऐसी ही Education जानकारियां लेने के लिए हमारे वेबसाइट rdnnotes.in को visit करे ताकि हर नयी और Education जानकारी सबसे पहले आप तक पहुचें। धन्यवाद 


इसे भी पढ़ें 👇👇👇 




Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area